कोरोना में समय मिला तो पापा कन्हैया लाल की जीवनी लिखने लगी : हेमा सिंह 

अपने समय के प्रसिद्ध चरित्र अभिनेता कन्हैयालाल की बेटी हेमा सिंह के साथ पत्रकार कमलेश भारतीय की एक इंटरव्यू

कोरोना में समय मिला तो पापा कन्हैया लाल की जीवनी लिखने लगी : हेमा सिंह 
प्रसिद्ध चरित्र अभिनेता कन्हैयालाल की बेटी हेमा सिंह।

कोरोना के फुर्सत के समय मिलने से मन में आया कि क्यों न फिल्म इंडस्ट्री के मुख्य स्तम्भों में से एक रहे अपने पापा व प्रसिद्ध चरित्र अभिनेता कन्हैयालाल की जीवनी ही लिखी जाए । यह कहना है कन्हैयालाल की बेटी हेमा सिंह का । अचानक इनकी प्रोफाइल में पता चला कि ये प्रसिद्ध एक्टर कन्हैयालाल की बेटी हैं तो सम्पर्क जोड़ा और इंटरव्यू के लिए बात हुई । मुम्बई में जन्मी और आजकल नोएडा में अपने बच्चों   पति के साथ फुर्सत का समय बिता रहीं हेमा सिंह ने जीवनी लिखनी शुरू कर रखी है । मैंने बताया कि उपकार फिल्म में जब वे प्रेम चोपड़ा को बड़े भाई मनोज कुमार के खिलाफ भड़काने में कामयाब हो जाते हैं तो कहते हैं -लाला जी , तोता मिर्च खा गया । कमाल का अभिनय ।
- आप फिल्मों में नहीं आईं ?
-जी नहीं । बाऊजी नहीं चाहते थे । कहते थे कि हम तो रोज़ी रोटी के लिए इसमें आए आप लोग थियेटर , डांस व अन्य कलाओं से जुड़िए । आप लोग भारतीय संस्कृति से जुड़िए 
-उनकी फिल्में देखीं ?
-मजेदार बात कि अपनी फिल्में भी हमें देखने नहीं देते थे । हमें ग्लैमर से दूर रखना चाहते थे । 
-मूल रूप से कहां के रहने वाले हैं आप लोग ?
-बनारस के चतुर्वेदी । 
-कब से आ गये होंगे ?
-मूक फिल्मों के जमाने से आ गये थे । लगभग बीस वर्ष की उम्र होगी ।
-पहली बोलती फिल्म?
-सन् 1939 में एक ही रास्ता ।
-जीवनी लिखने का फैसला कैसे ?
-बस । फुर्सत के दिन मिलने पर । चाहती थी कि कोई लिखे लेकिन सोचा खुद ही क्यों न लिखूं । 
-पापा की याद में कोई संस्था बनाई है ?
- जी । बनाई हुई है । अभिनय रत्न पंडित कन्हैयालाल मेमोरियल ट्रस्ट । इसकी मैं अध्यक्ष हूं । नोएडा में हमने महिलाओं की संस्था भी बना रखी है जिसमें डांस , म्यूजिक और एक्टिंग शामिल है ।
-पापा की कौन सी फिल्में बहुत पसंद हैं ?
-मदर इंडिया , गंगा जमुना, धरती कहे पुकार के , उपकार , मेरी सूरत , तेरी आंखें , हिमालय की गोद में आदि । 
-सबमें विलेन ही बने हैं ?
-नहीं । मेरी सूरत , तेरी आंखें में पाॅजिटिव रोल भी किया है । 
-आप अपने पापा का कितना योगदान मानती हैं ?
-फिल्म इंडस्ट्रीज के मुख्य स्तम्भों में से एक । मीना कुमारी भी उनकी गोद में खेलीं । तीन लाल मशहूर थे -मोती लाल , कन्हैयालाल व ईश्वर लाल ।
-आपके कितने बच्चे हैं ?
एक बेटा जतिन और बेटी प्रियंका । वे  भी ग्लैमर की दुनिया से दूर हैं ।  
हमारी शुभकामनाएं हेमा सिंह को ।

 

एक बेहतरीन चरित्र अभिनेता कन्हैयालाल- यादें ही शेष हैं।