जिला भाजपा द्वारा भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के 69वें बलिदान दिवस पर दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि

जिला भाजपा द्वारा भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के 69वें बलिदान दिवस पर दी गई भावभीनी श्रद्धांजलि

लुधियाना: भारतीय जनता पार्टी के पूर्ववर्ती प्रारूप भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के 69वें बलिदान दिवस पर भाजपा जिलाध्यक्ष पुष्पिंदर सिंगल के नेतृत्त्व में घन्टाघर स्थित भाजपा मुख्यालय में स्वर्गीय डॉ. मुख़र्जी के निमित्त एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें भाजपा पँजाब के महासचिव श्री जीवन गुप्ता, भाजपा पँजाब के पूर्व अध्यक्ष प्रोफेसर राजिंदर भंडारी ओर मुख्य वक्ता के रूप में शामिल हुए पँजाब सर्विस सलेक्शन बोर्ड के पूर्व सदस्य व वरिष्ठ भाजपा नेता श्री अशोक लुम्बा विशेष रूप से शामिल हुए, डॉ. मुखर्जी को अपने श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए जिलाध्यक्ष पुष्पिंदर सिंगल ने कहा 15 अगस्त 1947 को आज़ादी के बाद हमे जो भारत मिला उसे भी हम  5 अगस्त 2019 तक अटूट या अखंड नहीं कह सकते थे क्योंकि पँडित नेहरू व कांग्रेस की तुष्टिकरण की नीतियों के कारण आज़ाद भारत के एक अंदर जम्मू कश्मीर के रूप में एक ऐसा राज्य मौज़ूद था जिसका झंडा देश से अलग था जिसका संविधान शेष देश से अलग था और जिसके मुख्यमंत्री को सदरे ए रियासत यानि उस राज्य का प्रधानमंत्री कहा जाता था ओर जम्मू कश्मीर की सीमा में दाखिल होने के लिए वीज़ा रूपी परमिट लेना पड़ता था ओर उस समय भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने कांग्रेस की ऐसी विध्वंसक राजनीति का विरोध करते हुए नेहरू मंत्रिमंडल में उधोगमंत्री पड़ से त्यागपत्र देकर  21 अक्टूबर 1951 को भारतीय जनसंघ की नींव रखी और जम्मू कश्मीर में लागू ऐसी व्यवस्था को खत्म करने के लिए शुरू किए जनांदोलन का स्वयं नेतृत्त्व करते हुए 23 जून 1953 को देश की एकता अंखडता के लिए अपना बलिदान दे दिया ओर इसलिए उन्हें आज़ाद भारत का पहला बलिदानी कहा जाता है और डॉ. मुखर्जी के उस स्वप्न को 70 साल बाद भाजपा नीत सरकार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अगस्त 2019 को धारा 370 व 35A तोड़कर डॉ. मुखर्जी के बलिदान को सार्थक बना दिया और देश की एकता व अखंडता पर 1947 के बाद लगाए गए उस प्रश्नचिन्ह को ही समाप्त कर दिया।

 

इस अवसर पर प्रोफेसर राजिंदर भंडारी ने कहा मुझ से बड़ी पार्टी और पार्टी से बड़ा देश यानी राष्ट्र प्रथम के सिद्धांतों पर चल कर वर्तमान भाजपा राजनीति की दुनिया मे एक विलक्षण राजनीतिक दल कहलाती है जिसका प्रत्यक्ष प्रमाण है पार्टी के प्रथम अध्यक्ष डॉ.श्यामा प्रसाद मुख़र्जी द्वारा देश की अभिन्नता के लिए पार्टी के प्रथम आंदोलन का स्वयं आगे बढ़कर नेतृत्त्व करना और 52 वर्ष की आयु में स्वयं का बलिदान कर देना, इस अवसर पर श्री अशोक लुम्बा ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जीवन पर रोशनी डालते हुए कहा वह बहुमुखी प्रतिभा के मालिक थे और मात्र 23 वर्ष की आयु में कलकाता यूनिवर्सिटी के सीनेट के सदस्य बन गए और अपने पिता के पदचिन्हों पर चलकर मात्र 33 वर्ष की आयु में अपने पिता की तरह कलकत्ता यूनिवर्सिटी के उपकुलपति बन गए तथा बंगाल में मोहम्मद अली जिन्नाह के उकसावे पर हिंदुओं के उत्पीड़न के लिए चिंतित डॉ. मुखर्जी ने हिन्दू महासभा के सदय के रूप में उल्लेखनीय कार्य किए और 1941 से 1942 तक ए. के फज़लूहक मंत्रिमंडल में वह अकेले हिन्दू मंत्री रहे और आज़ादी के बाद उनकी प्रतिभा व अनुभव के देखते हुए पँडित नेहरू ने 1947 आज़ादी के बाद बने पहले मंत्रिमंडल में उन्हें उधोगमंत्री बनाया पँडित नेहरू की नीतियों से मतभेद होने पर सत्ता त्याग कर भारतीय जनसंघ का गठन किया जो आज भाजपा के रूप में एक वटवृक्ष का आकार ले चुकी है, इस अवसर पर भाजपा पँजाब के महासचिव जीवन गुप्ता ने कहा प्रधानमंत्री मोदी की सरकार का मूल सिद्धांत सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास वास्तव में डॉ.मुखर्जी की देश के प्रति निष्ठा व त्याग की विचारधारा पर आधारित है और मोदी की सभी नीतियां तथा योजनाएं डॉ. मुखर्जी व पँडित दीनदयाल उपाध्याय की तरह देश व देश की जनता के लिए समर्पित हैं जीवन गुप्ता ने कहा भाजपा ने 70 साल संघर्ष किया और एक जमाने मे उसके उम्मीदवारों को चुनाव लड़ने से पहले नतीज़े का पता होता था कि उसकी हार या जमानत जब्त होना तय है पर डॉ.शायमा प्रसाद मुखर्जी, पँडित दीनदयाल उपाध्याय अटल बिहारी वाजपेयी व लालकृष्ण आडवाणी जैसी अनेक विभूतियों द्वारा तय किए गए मापदंडों व विचारधारा की पूंजी लेकर कार्यकर्ता पीढ़ी दर पीढ़ी संघर्षरत रहे जिसका परिणाम आज सबके सामने है कि भाजपा आज दुनिया का सबसे बड़ा राजनीतिक दल है जिसके पास पिछले 10 सालों में सबसे ज्यादा सदस्य, सांसद, विधायक, पार्षद, पंच व सरपंच हैं ओर आज हमारा सभी का कर्तव्य है उनके इस त्याग व कुर्बानियों को अपना आदर्श बना कर विचारधारा की निरंतरता बनाए रखें यही डॉ. मुखर्जी जी को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

इस अवसर पर जिला महामंत्री कानतेन्दु शर्मा, उपाध्यक्ष श्रीमती राजेश्वरी गोसाइँ,अश्विनी बहल, महेश शर्मा, सचिव तरणजीत सिंह, नवल जैन, रमेश जैन बिट्टा, जिला भाजपा लोकल बॉडी सेल के अध्यक्ष इंद्र अग्रवाल, मंडल प्रधान सुरेश अग्रवाल, किरपाल सिंह, चंदन गुप्ता, जजवीर मनचंदा, प्रिंस भंडारी, तीर्थ तनेजा, हर्ष सरीन, धरमिंदर शर्मा,भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष कुशाग्र कश्यप आदि मौजूद थे।