Tag: innocent birds

Hindi Literature
विलुप्त होते बेजुबानों की सुध, कौन ले रहा है?

विलुप्त होते बेजुबानों की सुध, कौन ले रहा है?

अब तो चुपचाप शाम आती है, पहले चिड़ियों के शोर होते थे. मोहम्मद अल्वी का ये शेर लेख...

Gallery